Saturday, July 21, 2012

कांग्रेस की राजनीती से हिंदु नदारद, ईसाइयों का वर्चस्व ।


 क्यों ...क्या मैने कोई नई बात कह दिया है क्या..... हमारे देश के महान कांग्रेसियों यदि आप हिंदु हैं तो इसे जरूर पढें और सोचें की क्या आपकी अपनी ही पार्टी में एक जोकर से ज्यादा की हैसियत है क्या । जिस समय राजीव गांधी की मौत हुई उस समय बजाय किसी भारतीय कांग्रेसी को बैठाने के आप लोगों नें एक ऐसी औरत का चुनाव कर लिये जो ना केवल कांग्रेस पार्टी की  वरन पूरे देश के लिये घातक बन गई है । मैं यहां साफ साफ कहूंगा की सोनिया गांधी एक ऐसी महिला हैं जो पूर्ण रूप से मिशनरी के हाथो की कठपुतली हैं । आप कांग्रेसी होकर भी किसी महत्वपूर्ण पद पर इसलिये नही बैठ सकते क्योंकि आपमें गुलाम बनने की आदत शुमार नही है आपका अपना जमीर जिंदा है वरना आप प्रधानमंत्री भी बन सकते हैं । 
                  स्व. श्री अर्जुन सिंह, शरद पवार, पं. श्यामाचरण शुक्ल, विद्याचरण शुक्ल, माधवराव सिंधिया सहित ना जाने कितने सशक्त  हिंदु कांग्रेसी नेता थे और हैं भी लेकिन किसी हिंदु के मजबूत बनने पर देश भी मजबूत बन जाता और मैकाले की शिक्षा पद्यति में आमूलचूल परिवर्तन हो जाते जो किसी भी हालत में मिशनरी को स्वीकार नही हो सकता था । मिशनरी आझ पूरे देश पर राज कर रही है । मैं इस भारत देश के सारे हिंदु कांग्रेसियों को आइना दिखा रहा हूँ । अगर अब नही चेते, समझे तो अपनी औलादों को क्या समझाओगे ये अभी से समझना होगा । सोनिया की ताकत केवल पार्टी से ही है अगर किसी भी राज्य से केवल 500 कांग्रेसी इकट्ठा होकर सोनिया के विरोध में किसी हिंदु संगठन के साथ खडे हो जाएंगे ...यकिन मानिये सोनिया माईलो गांधी उसी तरह से गायब हो जाएगी जिस तरह से बीमारी का बहाना करके अन्ना के आंदोलन के समय ढाका से गायब होकर अमेरिका में मिली थी ।     
                                  किसी भी देश की ताकत उसके मंत्रालय होते हैं ...वर्तमान में हमारे देश के सारे मंत्रालयों पर केवल ईसाइ या मुस्लिम बैठे हुए हैं और हमारे देश के महान हिंदु कांग्रेसी सोनिया की चाटुकारिता में अपना धर्म भूल रहे हैं । जयचंद को कोसने वाले कांग्रेसियों को अब अपने गिरेबान में झांकने का समय आ गया है ... नीचे हमारे भारत देश के पदों पर आसिन नेताओं के नाम पद के साथ हैं इनमें से जिने भी नामों के आगे >>> लगे हुए हैं वह सभी विभाग सीधे ईसाइ मिशनरी या फिर सोनिया माईनो के आधीन हैं और इन्ही पदों पर नियंत्रण रखते हुए वर्तमान में कांग्रेसियों की यह त्याग की मूर्ति दुनिया की चौथी सबसे रईस महिला राजनेता बन गईं है ।  (सोनिया गाँधी का असली नाम “सोनिया” नहीं बल्कि “ऎंटोनिया” है, यह बात इटली के राजदूत ने 27 अप्रैल 1983 को लिखे पत्र में स्वीकार की है, यह पत्र गृह मंत्रालय नें अपनी मर्जी से कभी सार्वजनिक नहीं किया। “एंटॊनिया” नाम सोनिया गाँधी के जन्म प्रमाणपत्र में अंकित है। सोनिया गाँधी को “सोनिया” नाम उनके पिता स्व.स्टेफ़ानो माईनो ने दिया था। ...सुरेश चिपलुनकर जी के ब्लॉग से )  
नीचे                 


>>>1. प्रधानमंत्री के साथ ही उन मंत्रालयों और विभागों का प्रभार
जो किसी मंत्री को नहीं सौंपे गए हैं।
इनमें कार्मिक, जन शिकायत और पेंशन, योजना मंत्रालय, वित्त मंत्रालय, परमाणु ऊर्जा
तथा अंतरिक्ष विभाग शामिल हैं। ..........................डॉ. मनमोहन सिंह (जो भी काम,जानकारी आए मैडम से मिले )
>>>>>2. कृषि एवं खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय .........  शरद पवार 
>>>>>>3. रक्षा मंत्रालय .................  ए. के. एंटनी 
>>>>>4. गृह मंत्रालय ...................  पी. चिदंबरम 
>>>>>5. विदेश मंत्रालय ................ एस. एम. कृष्णा
6. विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय और पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय.......................... श्री विलासराव देशमुख 
>>>>>7. स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ...........  गुलाम नबी आजाद 
8. ऊर्जा मंत्रालय ................ श्री सुशील कुमार शिंदे
 >>>>>9. कॉर्पोरेट कार्य मंत्रालय .............. एम. वीरप्पा मोइली 
>>>>>10. नवीन एवं अक्षय ऊर्जा मंत्रालय............ फारूक अब्दुल्ला 
>>>>>11. पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय ........... एस. जयपाल रेड्डी (कहां कहां मिल रही है गैस पहले हमें बताना ताकि ठेके अपने लोगों को दिये जा सकें और हां 27 प्रतिशत पेट्रोल पंप अपने लोगों के लिये आरक्षित कर दो )
12. शहरी विकास मंत्रालय............. श्री कमलनाथ
>>>>>13. प्रवासी भारतीय मामले का मंत्रालय ...........  वायलार रवि 
>>>>>14. सूचना और प्रसारण मंत्रालय........... अम्बिका सोनी 
>>>>>15. श्रम और रोजगार मंत्रालय......... मल्लिकार्जुन खड़गे 
>>>>>16. मानव संसाधन विकास, दूरसंचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय....  कपिल सिब्बल (पुच्च्च्च् ध्यान रखना शिक्षा प्रणाली मैकाले साहब से बाहर की ना होने पाए वैदिक ज्ञान सांप्रदायिक घोषित करो
17. वाणिज्य और उद्योग और कपड़ा मंत्रालय .......श्री आनंद शर्मा
18. सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय........... श्री डॉ. सी. पी. जोशी
>>>>>19. आवास और शहरी गरीबी उन्मूलन तथा संस्कृति मंत्रालय........... कुमारी शैलजा
20. पर्यटन मंत्रालय........ श्री सुबोध कांत सहाय
>>>>>21. पोत परिवहन मंत्रालय.........  जी. के. वासन ( ध्यान रखान अपना माल जा रहा है )
22. संसदीय कार्य तथा जल संसाधन मंत्रालय......... श्री पवन कुमार बंसल
23. सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय....... श्री मुकुल वासनिक
>>>>>24. रसायन और उर्वरक मंत्रालय...........  एम. के. अलगिरि (
25. भारी उद्योग एवं सार्वजनिक उद्यम मंत्रालय.......... श्री प्रफुल्ल पटेल
26. कोयला मंत्रालय ...............श्री श्रीप्रकाश जायसवाल
>>>>>27. विधि और न्याय मंत्रालय तथा अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय.......  सलमान खुर्शीद (अब समझे ..क्यों आतंकियों को चिकन बिरयानी और प्रज्ञा को यातनाएं दी जा रही है, बालकृष्ण को जेल के अंदर और सुब्बा को संसद के भातर रखा जा रहा है )
>>>>>28. जनजातीय मामलों के मंत्रालय और पंचायती राज मंत्रालय........ वी. किशोर चंद्र देव 
29. इस्पात मंत्रालय....... श्री बेनी प्रसाद वर्मा 
30. रेल मंत्रालय......... श्री मुकुल रॉय 
31. ग्रामीण विकास मंत्रालय और पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय.....श्री जयराम रमेश
32. नागरिक उड्डयन मंत्रालय.........श्री अजित सिंह 
                                      तो मेरे प्यारे हिंदुस्तान के क्रिश्चियन बन रहे कांग्रेसी भाइयों ... आप क्या कहेंगे ... मुझे गाली देंगे ... धमकी देंगे ... या फिर सीधे हमला कर देंगे..... लेकिन एक बात सोचकर देखो की क्या केवल पैसों से ही हमारी संस्कृति, हमारी सभ्यता, हमारी परंपरा , हमारा धर्म चल रहा है । ....नही पैसे की चाह केवल दुसरे धर्म के लोगों को होती है इसलिये वे बारबार हमें लुटने आते रहते हैं .....हमारे देश में केवल तीन धर्म हैं हिंदु , मुस्लिम और ईसाइ........
                             सिक्ख, जैन औऱ बौद्ध तो हिंदु धर्म की ही शाखा हैं ....यदि वे माने तो भी ना माने तो भी ... हमारे देश के धर्म को तोडकर जातियों को धर्म में परिवर्तित कर दिया गया है और ना उन्हे कुछ मिला है और ना हमें कुछ मिल रहा है ।