Friday, November 12, 2010

संघ का धरना, कांग्रेस का हमला


 ये कोई मजाकिया व्यंग्यात्मक बातें नही है ये सनसनीखेज खबर है । जब राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ अपने ऊपर लग रहे कांग्रेसी आतंकवाद का कलंक हटाने के लिये देश भर में धरना प्रदर्शन कर रहा है, ऐसे में देश की राजनीती को प्रभावित करने की क्षमता रखने वाले इलाहाबाद में कांग्रेस की राज्य इकाई के उपाध्यक्ष सहित कई कांग्रेसी नेताओं नें (जिनमें इलाहाबाद शहर के मेयर भी शामिल थे) शहर के आरएसएस दफ्तर पर हमला करके तोडफोड कर दिये । मैने अभी हाल ही में  लिखा था कि यदि कोई सोनिया के ऊपर टीप्पटी होती है तो ये कांग्रेसी देश बंद तक का आव्हान कर देते हैं लेकिन हमारे देश की एक ऐसी राष्ट्रवादी संस्था जिसके साये में आज हर हिंदुस्तानी चौन की सांस ले रहा है उसके खिलाफ इस तरह का हमला देश को कहां लेकर जाएगा ये सोचने की बात है । मैने कल ही कहा था कि संघ को बाचाओ वरना देश गंवाओ ... अभी भी समय है हमें हर हाल में आरएसएस पर हुए हमले का जवाब देना होगा वरना ये कांग्रेसी जिस तरह से हमें गढ्ढे में गिराते चले आ रहे हैं उसी में डुबा देंगे । जागो बंधुवर और जाति धर्म से अलग होकर सोचो कि कांग्रेस क्या कर रही है , वह अपने भ्रष्टाचारीयों कलमाडी और अशोक चव्हाण जैसे लोगो को केवल पद से हडा रही है और कोई कार्यवाही नही कर रही है । कसाब  जैसे आतंकवादीयों को पालने वाली कांग्रेस राष्ट्रवादी दल को आतंकवादी का दर्जा देकर जवाहर लाल का युग वापस लाना चाहती है ... जागो और बहिष्कार करो कांग्रेस की सभाओं का, उसकी विज्ञपत्तियों का  औऱ अफनी कलम के वार से मुहिम छेडो एक राष्ट्रवादी संगठन के लिये ... मेरे लिये नही .. देश के लिये और अपने बच्चों के लिये वरना कोई नही बचेगा सिवाय भ्रष्टाचारियों के ।